नारी सशक्तिकरण के द्वारा मनीषा बापना नारीत्व की पूर्ण अभिव्यक्ति पर ध्यान दिलवाना चाहती

11/14/2017

नारी सशक्तिकरण आज की विश्व में एक बहुत ही दया की दृष्टि से देखा जाता है। नारी सशक्तिकरण के द्वारा मनीषा बापना नारीत्व की पूर्ण अभिव्यक्ति पर ध्यान दिलवाना चाहती है 'इस प्रकार मनीषा बापना नारीओं के सशक्तीकरण को लिंग के भेदभाव से दूर करना चाहिए और रचनात्मक और जनरेटिक कार्रवाई के आधार पर एक मातृचर समाज स्थापित करने के लिए पूरे मानवता तक पहुंचना चाहिए। ऐसा सामाजिक आदेश प्रेम, करुणा, पोषण और प्रकृति की शक्तियों को एकजुट करने के एक उद्देश्य के सिद्धांतों पर आधारित होना चाहिए।

         वास्तविकता में ऐसा होने के लिए प्राथमिक आवश्यकताएं नारीओं की सामाजिक, आर्थिक, धार्मिक और राजनीतिक सशक्तीकरण है। नारीओं को अपने घरों से बाहर आना होगा और समाज के पुनर्निर्माण में सक्रिय रूप से भाग लेना होगा। जब नारीओं को समान अवसर के साथ जीवन के सभी क्षेत्रों में सशक्त बनाया जाता है और जब उनके पास सार्वजनिक रूप से सक्रिय जीवन जीने का विकल्प और अवसर होता है तो हम समाज में सामूहिक परिवर्तन के लिए बनाई जा रही नींव के बारे में बात कर सकते हैं।

हमें यह समझने की ज़रूरत है कि नारीओं को अधिक आर्थिक, सामाजिक, धार्मिक और राजनीतिक रूप से सशक्त बनाया जाता है, अधिक आत्मविश्वास से वह अपने विचारों को अभिव्यक्त करती है और वह अपने कार्यों में अधिक उत्पादक बन जाती है। इससे उसके परिवार, समाज, देश और दुनिया के साथ उनके समकक्षों के साथ निर्णय लेने में शामिल हो जाता है जो पुरुष हैं। लेकिन यह वास्तविकता नहीं है जैसा आज हम देखते हैं। आज के ढांचे अभी भी प्रकृति में पितृसत्तात्मक हैं जो सत्ता और नियंत्रण पर आधारित हैं। इस प्रकार की स्थापना में नारीओं के लिए एक दृश्य या अदृश्य ग्लास की अधिकतम सीमा होती है। नारीएं एक बिंदु से परे सीढ़ी तक नहीं बढ़ सकती हैं यही कारण है कि जीवन के सभी क्षेत्रों में सभी प्रमुख शक्ति संरचनाएं अभी भी पुरुषों द्वारा नियंत्रित हैं इन लूप-पक्षीय पुरुष प्रभुत्व वाले संरचनाओं के परिणाम देखने के लिए भारी हैं। इस प्रकार की स्थापना में नारीत्व और स्त्री की सभी लिंगें हाशिए हैं। इसके अलावा इन पितृसत्तात्मक संरचना समाज के विभाजन के लिए ज़िम्मेदार हैं और वे कुशलता के आधार पर अत्यधिक स्व-उन्मुख भौतिकवादी संरचनाओं को बढ़ावा देते हैं और कभी प्राकृतिक संसाधनों का शोषण नहीं करते हैं।

                            जीवन के सभी क्षेत्रों में नारी सशक्तिकरण आवश्यक संतुलन लाएगा जो प्रकृति में आवश्यक है। इससे संरचनाओं को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी जो कि अधिक समावेशी, प्रगतिशील, रचनात्मक, रचनात्मक और प्रकृति में प्रकृतित्मक हैं और जो प्रकृति के साथ सिंक में हैं। इससे पहले कि हम देखते हैं कि नारी सशक्तिकरण एक वास्तविकता बनने से पहले अभी भी एक लंबा रास्ता तय करना है नारीओं की आर्थिक सशक्तीकरण इस दिशा में पहला कदम है। जितनी अधिक नारी आर्थिक रूप से सशक्त हो जाती है, उतनी अधिक प्रगतिशील वह जीवन के अन्य क्षेत्रों में बन जाती है। इसलिए पूरे विश्व में महिलाओं के सशक्तिकरण का अध्ययन और विश्लेषण करना जरूरी है और जीवन के हर क्षेत्र में कुल महिला सशक्तीकरण को प्राप्त करने के तरीके तलाशने होंगे।